तेनाली राम की २५+ सर्वश्रेष्ठ कहानियाँ | 25+ Best Tenali Raman Stories In Hindi

Tenali ramakrishna

तेनाली राम की २५ सर्वश्रेष्ठ कहानियाँ | 25 Best Tenali Raman Stories In Hindi तेनाली रामकृष्ण (तेनाली राम) के नाम से भी जाने जाते है। वे एक भारतीय के सर्वश्रेठ विद्वान, कवि, विचारक थे। वे अष्टदिग्गजों में से एक थे। श्री कृष्णदेवराय के दरबार में एक विशेष सलाहकार थे। इस आर्टिकल में हम Tenali Raman … Read more

अंतिम इच्छा – Tenali raman stories in hindi

Tenali raman stories in hindi

अंतिम इच्छा – Tenali raman stories in hindi अंतिम इच्छा – Tenali raman stories in hindi : समय के साथ-साथ राजा कॄष्णदेव राय की माता बहुत वॄद्ध हो गई थीं। एक बार वह बहुत बीमार पड गई। उन्हें लगा कि अब वे शीघ्र ही मर जाएँगी। उन्हें आम से बहुत लगाव था, इसलिए जीवन के … Read more

शातिर व्यापारी – Tenali raman stories in hindi

Tenali raman stories In hinidi

शातिर व्यापारी – Tenali raman stories in hindi शातिर व्यापारी – Tenali raman stories in hindi : एक समय की बात हैं। तेनालीराम और महाराज कृष्ण्देवराय से वर्तालाप में उलजे हुए थे , तभी राजा ने अचानक तेनालीराम से पूछा, ‘तेनाली , यह बताओ कि किस प्रकार के लोग किस प्रकार के लोग सबसे अधिक … Read more

द्रोही राजगुरु – tenali raman stories in hindi

द्रोही राजगुरु - tenali raman stories in hindi

द्रोही राजगुरु – tenali raman stories in hindi द्रोही राजगुरु – tenali raman stories in hindi : तेनालीराम के सभी काम और प्रतिभा से विजयनगर के राजगुरु परेशान थे , क्योकि राजगुरु को हर कुछ दिन तेनालीराम की वजह से जुकना पड़ता था। इसी कारण वो राजदरबार में हास्य पात्र बनता था। राजगुरु तेनालीराम के … Read more

तेनाली एक योद्धा – tenali raman stories

Tenali raman stories

तेनाली एक योद्धा – Tenali raman stories तेनाली एक योद्धा – Tenali raman stories : बहुत समय पहले की बात हैं , एक सुप्रसिद्ध योद्धा उत्तर भारत से विजयनगर आया।वह योद्धा पराक्रमी था , उसने अपने बल और ताकत पर कई राजाओ को पराजित किया था और पुरस्कार भी जीत रखे थे। वह आज तक … Read more

अपमान का बदला – hindi story of tenali rama

अपमान का बदला – hindi story of tenali rama तेनालीराम ने कहा तह था कि राजा कृष्णदेव राय बद्धिमानो व गुणवानो का आदर करते हैं। उसने सोचा, क्यों न उनके यह जाकर भाग्य आज़माया जाए। लेकिन बिना किसी सिफारिश के राजा के पास जाना टेढ़ी खीर थी। वह किसी ऐसे अवसर की तक में रहने … Read more