गांव पर निबंध | Essay on village in hindi

प्रस्तावना :

गांव पर निबंध | Essay on village in hindi : गांव का जीवन यानी की शांत और शुद्ध जीवन। क्योंकि गांव प्रकृति की गोद में होते है। गांव का जीवन कठिन भी है परन्तु उतना ही सरल भी है। गांव के लोग भी शांत और कोमल स्वभाव के होते है।

निबंध १ (50 शब्द)

गांव पर निबंध | Essay on village in hindi
गांव पर निबंध | Essay on village in hindi

मेरे गांव का नाम रामपुर है। मेरा गांव बहुत सुंदर है। मेरे गांव में ज्यादातर लोग किसानी करते हैं। मेरे गांव में लगभग 1500 लोग रहते हैं। मेरे गांव में चारों तरफ हरियाली है। मेरे गांव में एक बहुत बड़ा तालाब है। मेरे गांव में सभी लोग मिल जुल कर रहते हैं। मेरे गांव में प्रदूषण बिल्कुल भी नहीं है। मुझे अपना गांव बहुत अच्छा लगता है। मेरा गांव एक आदर्श गांव है।

निबंध २ (100 शब्द)

मेरे गांव का नाम विश्रामपुर है ।यह समुद्र के किनारे स्थित है ।मेरा गांव सुंदरता, ताजगी और शांति का मिलाप है ।साल भर यहां कई तरह के फल और फूल उगते हैं।

यहां उगाया गया अनाज शुद्ध, स्वच्छ पोस्टिक होता है ।मेरे गांव में लगभग २००० लोग रहते हैं। खेती कई ग्राम वासियों का मुख्य व्यवसाय है ।गांव में एक बड़ा तालाब है। जिसके कारण लोगों को पानी की समस्या नहीं होती तालाब के किनारे भगवान श्री कृष्ण जी का सुंदर मंदिर है। सभी ग्राम वासियों यहां भक्ति भाव से पूजा करते हैं।

गांव पर निबंध | Essay on village in hindi
गांव पर निबंध | Essay on village in hindi

बच्चों के लिए गांव में एक सरकारी स्कूल है ।मेरे गांव में एक अस्पताल डाकघर और बैंक भी है। मेरे गांव के लोग साधारण जीवन जीते हैं और आपस में भाईचारा भी रखते हैं मैं अपने गांव से बहुत प्यार करता हूं और मुझे लगता है कि सबसे सुंदर जगह है।

निबंध ३ (150 शब्द)

गांव के मेले बहुत सामान्य होते हैं। वे विभिन्न त्योहारों पर आयोजित किए जाते हैं ।गांव वाले इन मेलों में भाग लेते हैं ।मेरे गांव में दुर्गा पूजा पर एक बड़े मेले का आयोजन किया जाता है।

यहां मेला दिन तब चलता है ।एक बड़े मंच को सजाया जाता है ।इस पर देवी दुर्गा की मूर्ति स्थापित की जाती है। कहीं छोटी दुकानें और स्टॉल खोले जाते हैं। आसपास के सभी गांव के लोग इस में भाग लेते हैं। वे अपनी वस्तुएं लाते हैं और बेचते हैं। ग्रामीण लोग शाम में इन मेलो का भ्रमण करते हैं।

वे देवी दुर्गा की पूजा करते हैं फीर वे सभी दुकानों का भ्रमण करते हैं ।औरतें चूड़ियां कपड़े तथा गहने खरीदती है ।बच्चे खिलौने खरीदते है। हम यहां गरम समोसे जलेबियां तथा पकोड़े बिकते हुए भी देख सकते हैं ।लोग कई वस्तुएं खरीदते हैं तथा आनंद लेते हैं ।ग्रामीण में लोग का भ्रमण करना पसंद करता हूं।

निबंध ४ (200 शब्द)

मेरा गांव एक बहुत ही छोटा सा गांव है जो कि भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के सिद्धार्थ नगर जिले में स्थित है। मेरे गांव का नाम सालवान है ।जहां पर हिंदी और भोजपुरी भाषा बोली जाती है।

मेरा गांव चारों तरफ से खेतों से घिरा हुआ है ।मेरे गांव में सुबह के समय बहुत शांति होती है और सुबह में पक्षियों चहचहाट बहुत ही मधुर लगती है ।मेरे गांव के सभी लोग मिलजुल कर रहते हैं और आमतौर पर यहां संयुक्त परिवार है ।यहां के लोगों का मुख्य पेशा खेती और पशुपालन है ।मेरे गांव में मस्जिद और मंदिर दोनों है।

गांव पर निबंध | Essay on village in hindi
गांव पर निबंध | Essay on village in hindi

मेरे गांव में जात पात और ऊंच-नीच का भेदभाव नहीं है ।मेरे गांव के लोग सुलझे हुए है ।मेरे गांव की सड़कों पर रोजाना झाड़ लगता है ।मेरा गांव गंदगी मुक्त काम है। जहां पर दसवीं दस-वींस घंटे बिजली रहती है। मेरे गांव में दो स्कूल है ।एक सरकारी तथा प्राइवेट है। मेरे गांव की मिट्टी मैं एक अलग खुशबू है ।मैं बड़ा होकर डॉक्टर बनना चाहता हूं और मैं अपने गांव के लोगों की सेवा करना चाहता हूं मैं अपने गांव से बेहद प्यार करता हूं और मेरा गांव सबसे प्यारा है।

निबंध ५ (200 शब्द)

मेरा गांव एक आदर्श गांव है। मेरे गांव झारखंड राज्य के राज्य शहर में स्थित है। मेरे गांव में लगभग 2000 लोग रहते हैं मेरे गांव के लोग ज्यादातर खेती और पशुपालन करना पसंद करते हैं। गांव में एक अच्छा सरकारी अस्पताल, विद्यालय, और डाकघर भी है। हमारे गांव में बिजली, पानी, सड़क, इत्यादि की बहुत अच्छी व्यवस्था है।

मेरे गांव का हर एक निवासी शिक्षित और जागरूक है। मेरे गांव में चारों तरफ हरियाली ही हरियाली है। मेरा गांव सौर— गुल से प्रदूषण रहित गांव है। मैं अपने इस गांव पर गर्व महसूस करता हूं। मुझे भी अपना गांव प्यारा लगता है। गांव में एक तालाब तथा नदी भी है। तालाबों में तैरना सीखा है।

गांव सुबह और समय बड़ा मोहक होता है। मेरे गांव मैं यहां का वातावरण स्वच्छ और प्रदूषण युक्त है। सुबह में कोयल की आवाज वातावरण को और भी आकर्षक बना देती है। तब ऐसा लगता है,कि इस शहर छोड़कर गांव भाग चलु। गांव में हर मौसम बहुत अच्छी लगती है। ठंडी हो गर्मी हो या बरसात यहां के पालतू जानवर हरे भरे खेत खलिहान मुझे बहुत आकर्षित करते हैं।मुझे तो शहर की अपेक्षा बहुत अच्छा लगता है।

संबंधित जानकारी :

मेरे शहर पर निबंध

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , निबंध , कविताए , भाषण और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल “गांव पर निबंध | Essay on village in hindi” अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

इस आर्टिकल की इमेज गूगल और pinterest से ली गई है।

धन्यवाद❤️

Leave a Comment