आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi

प्रस्तावना :

आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi : आतंकवाद का मुख्य उद्देश्य असामाजिक तत्वों का उपयोग कर लोगो के मन में भय पैदा करना होता है। आतंकवाद एक वैश्विक समस्या बन चुकी है। आतंकवाद एक ऐसी हिंसक निति है पैरोतले जिससे आम जनता को काफी हानि होती है। इसके कई पहलु होते है , जिसकी जानकारी निबंध के रूप में प्रस्तुत है।

निबंध 1

आतंकवाद का खतरा आजकल कौन है।फिर बयाना कश्मीर के आतंकवादी हैं। भारतवर्ष के पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी युवा तम प्रधानमंत्री दोनों की हत्या कर दी गई वे दोनों ही आतंकवाद के शिकार हुए मुंबई तथा कोलकाता के विशाल नगरों में आतंकवादियों ने संपत्ति का अपार विनाश किया तथा उनको हत्याएं की।

आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi
आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi

कश्मीर असम एवं देश के अन्य भागों में निर्दोष लोगों की हत्या किया दैनिक एवं नियमित हटना बन गई है। आतंकवादी हमारे देश के लिए गद्दार है 7 जुलाई 2013 को आतंकवादियों द्वारा बोधगया के महाबोधि मंदिर में 10 सुखराम बस विस्फोट किए गए जिसमें दो बोसमिक्स सहित पांच लोग घायल हुए 1 मई 2014 को चेन्नई रेलवे स्टेशन पर हुए।बम विस्फोट में एक महिला की मृत्यु हो गई और लगभग 14 व्यक्ति घायल हो गए। इसका समाधान कुछ इस प्रकार है। सर्वप्रथम कश्मीर आता अन्य राज्यों के कष्टों का निवारण स्नेह पूर्ण कथा व्यवहारी समाधान द्वारा चाहिए। इन राज्यों में रहने वाले नवयुवको की ऊर्जा का उपयोग कार्य तथा अन्य उपयोगी ब्याव में उपयोग किया जाता है। आतंकवादियों का दमन एवं पूरी कठोरता तथा अत्यधिक प्रभावपूर्ण ढंग से किया जाना चाहिए।

निबंध 2

आतंकवादी का एक और कानूनी तरीका है। जो लोगों को डराने के लिए आतंकवादियों द्वारा प्रयोग किया जाता है आज आतंकवाद एक सामाजिक मुद्दा बन गया है। इनका इस्तेमाल आम लोगों और सरकार को डराने धमकाने के लिए हो रहा है। बहुत आसानी से अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए विभिन्न सामाजिक संगठन राजनीति और व्यापारिक उद्योग को द्वारा आतंकवाद का इस्तेमाल किया जाता है।लोगों का जो आतंकवाद का समर्थन करते हैं।

उन्हें आतंकवादी कहते हैं। आतंकवाद एक कुकृत्य हैं।जिस को अंजाम देने वाले समूह को आतंकवादी कहते हैं।वह बहुत साधारण लोग होते हैं।और दूसरों के द्वारा उनके साथ घटित हुए कुछ गलत घटनाओं को और या पूछो प्राकृतिक आपदाओं के कारण वे किसी तरह अपने दिमाग पर से अपना नियंत्रण खो देते हैं धीरे-धीरे वह समाज के कुछ बुरे लोगों के प्रभाव में आ जाते हैं।जहां उनकी सभी को पूरा करने का वादा किया जाता है।वह सभी एक साथ मिलकर और एक आतंकवादी समूह बनाकर जो कि अपने ही राष्ट्र समाज और समुदाय से लड़ता है।आतंकवाद देश के सभी युवाओं के विकास और वृद्धि को प्रभावित करता है।

आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi
आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi

आतंकवादी बनाते हैं।क्योंकि अपने ही राष्ट्र समाज और समुदाय से लड़ता है।आतंकवाद देश के सभी युवाओं के विकास और वृद्धि को प्रभावित करता है। यह राष्ट्र को उचित विकास कहीं वर्ष पीछे धकेल देता है। आतंकवाद देश पर अंग्रेजों की तरह राज्य कर रहा है। जिससे हमें फिर से आजाद होने की जरूरत है।हालांकि ऐसा प्रतीत होता है।कि आतंकवाद हमेशा अपने क्षण को गहराई से फैलाता रहेगा क्योंकि अपने अनैतिक उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए राष्ट्र के कुछ अमीर लोग अभी भी इस को समर्थन देते हैं।

निबंध 3

ऐसे लोग जो अपने को खरीद समाज और राष्ट्र में भय का माहौल पैदा करते हैं। उन्हें आतंकवादी कहा जाता है। वर्तमान समय में आतंगकवाद हमारे देश के लिए एक जटिल समस्या बनी हुई है।बनी हुई है। आज भी भारत के दुश्मन इसे शांति को भंग करने के लिए यहां के समाज में आतंक का वातावरण पैदा करने में लगे हैं।

देश को नुकसान पहुंचाने में लगे हैं। ऐसे ऐसे लोग सामूहिक हत्या अपहरण डकैती सार्वजनिक संपत्ति की क्षति अकारण बम विस्फोट आधी करते हैं। उनके इनको कृकृत्यो को ही आतंकवाद कहा जाता है।या फ्रेंड से अमेरिका का जो टावर पर हमला किया था या भारत में ताज होटल पर जो हमला किया गया था आतंकवादियों की कुकरित्यो की ही देन है।क्योंकि आतंकवादी सिर्फ अपने देश में ही नहीं बल्कि दूसरे देशों को भी क्षति पहुंचाने का प्रयास करते हैं।

आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi
आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi

आतंकवाद के दो प्रकार होते हैं।एक आंतरिक आतंकवाद और एक एक आंतरिक आतंकवाद और एक वाहिनी आतंकवाद ऐसे लोग जो देश के अंदर आतंक का माहौल पैदा करते हैं राष्ट्र विरोधी तत्व बाहर से आकर देश के किसी भाग में आतंकवादी कार्यवाही करता है।तो उसे वहीनी आतंकवादी कहते हैं।आंतरिक आतंकवाद का मुख्य कारण बेकारी के कारण नव युवकों में हमेशा की भावना का खेलना और सरकार की गलत नीति का विरोध है।यह विरोध ही धीरे-धीरे हिंसक हो उठता है। और इस प्रकार के लोग जगनिया विरोधियों को अंजाम देने लगते हैं। बाह्य आतंकवाद की समस्या भारत के लिए सबसे जटिल है।

इस समस्या का संबंध अलगावाद से है।भारत के कुछ पड़ोसी देश भारत की अखंडता से द्वेष करते है। भारत को विखंडित करना चाहते हैं। आंतरिक आतंकवाद को अगर राजनीतिक लोग स्वार्थ छोड़कर समर्थन देना बंद कर दे तो यहां शीघ्र ही समाप्त हो जाएगा सरकार को भी अपनी जनविरोधी नीति में सुधार लाने की जरूरत है। सरकार की कमजोर नीति आतंकवाद के लिए जिम्मे वार है। आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए एक सुनिश्चित योजना के ईमानदारी से कार्य करने की आवश्यकता है यदि किसी व्यक्ति पर शक है कि वहां आतंकवाद है। तो तुरंत उसकी सूचना नजदीकी पुलिस स्टेशन जाकर दे दे ताकि वहां आतंक फैला सके और देश की जनता की सुरक्षा हो सके।

निबंध 4

आतंकवाद दो शब्दों से मिलकर बना है आतंक+वाद। आतंक का अर्थ होता है वही या डर और वाद का अर्थ होता है पद्धति। गैर कानूनी तरीके से समाज को अपने को कृतियों से अभी कोई भी कर देने को आतंकवाद के होते हैं। जो लोग इन गतिविधियों से लोगों को भयभीत करते हैं। वह आतंकवादी कहलाते हैं।

आतंकवादियों का क्या उद्देश होता है सरकार और देश को लोग में भाई उत्पन्न करके अपनी अनुसूचित बातों को मानवता आतंकवाद किसी भी एक व्यक्ति समाज अथवा राष्ट्रीय विशेश्वर के लिए ही नहीं अपितु पूरी मानव सभ्यता के लिए कलंक है। हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में इसका जहर इतनी तीव्रता से फैल रहा है यदि इस समय नहीं रोका गया तो यह पूरी मानव सभ्यता के लिए खतरा बन सकता है। आतंकवाद दो प्रकार के होते हैं।

आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi
आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi

राजनीतिक आतंकवाद और अपराधिक आतंकवाद राजनीतिक आतंकवाद वहां होता है जो अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए जनता में डर फैलाता है।और अपराधिक आतंकवाद वहां होता है जो अपहरण करके पैसे की मांग करता है ।आतंकवाद किसी भी देश अथवा संगठन के लिए एक बहुत बड़ा खतरा है। आतंकवादी गतिविधियों से देश में अशांति और हिंसा फैलाती है। भारत में आतंकवाद के विकसित होने के अनेक कारण हैं। आतंकवाद की समस्या पिछले एक दशक से शुरू हुई है आज से 10 साल पहले छोटे-छोटे लूटपाट के मामले सामने आ गए थे।

लेकिन आज के समय में यह समस्या बहुत बढ़ गई है आज यहां छोटी लूटपाट से मार काट पर उतर आई है।आतंकवाद के उत्पन्न होने के मूल कारण हैं। गरीबी बेरोजगारी भुखमरी और धार्मिक उन्माद आतंकवाद की गतिविधियों को सबसे अधिक प्रोत्साहन धार्मिक कट्टरता से मिलता है। लोग धर्मों के नाम पर एक दूसरे का गला काटने से भी पीछे नहीं हटते इसी के फलस्वरूप हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई आदि धर्म के नाम पर बहुत से दंगे फसाद पड़ता दिया गए हैं।

हमें जाति धर्म के आधार पर भेदभाव ना करते हुए हम सभी को मिलकर आतंकवाद को खत्म करने के लिए प्रयास करना चाहिए आतंकवाद को समय करते हुए जड़ से नष्ट करके प्रबल उपाय खोजने चाहिए। यदि समय रहते आतंकवाद को नहीं रोका गया तो यहां हमारे भारत देश के लिए एक बड़ी समस्या बन जाएगा हमारे देश में प्रतिवर्ष 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है।देश की शिक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने की जरूरत है।अभी देश के गरीब आधे लोग अशिक्षित या बेहतर शिक्षा से वंचित है जिस पर सरकार को सर्वशिक्षा अभियान को काफी जोर से जमीनी स्तर तक लाना होगा समाज शिक्षित होगा तो फेक न्यूज़ अखबारों और किसी की कही बातों में नहीं आएगा और यह देश के विकास में सहयोग भी देगा।

निबंध 5

आतंकवाद पर किसी भी विनाशकारी शक्ति द्वारा विभिन्न तरीकों से भाई की स्थिति को उत्पन्न करना है।आतंकवाद फैलाने वाले को आतंकवादी कहा जाता है।आतंकवाद किसी एक व्यक्ति समाज अथवा राज्य विशेष के लिए कि नहीं अभी तो पूरी मानव सभ्यता के लिए कलंक है। हमारे देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में इसका जोहर इतनी तीव्रता से फैल रहा है कि यदि इसे समय रहते नहीं रोका गया तो यह पूरी मानव सभ्यता के लिए खतरा बन सकता है।

आतंकवादियों का केवल एक ही उद्देश होता है। सरकार और देश के लोगों में भाई उत्पन्न करके अपनी अनुचित बातों को मन माता आतंकवादियों का कोई देश धर्म जाति नहीं होता है। वही बोलने वाले बच्चों, स्त्री और जवानों की बहुत ही बेरहमी से हत्या कर देते हैं। कानूनी व्यवस्था को ताक पर रखकर आतंकवादी देश में आताजलता फैलते हैं। आतंकवाद के उत्पन्न होने में मूल कारण है गरीबी बेरोजगारी भुखमरी और धार्मिक उन्माद। आतंकवाद की गतिविधियों को सबसे अधिक प्रोत्साहन धार्मिक कट्टरता से मिलता है लोग धर्म के नाम पर एक दूसरे का गला काटने से भी पीछे नहीं हटते सिनेमाघर रेलगाड़ियों यूपी वाले इलाकों में बम विस्फोट द्वारा हाथ फैला एक घटना बन गई है।

आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi
आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi

आतंकवाद के कारण आज जीवन अनिश्चित बना गया है। कभी भी कहीं भी कुछ भी हो सकता है। आतंकवादियों का उर्दू एक मात्रा आतंक फैलाना है उन्हें इससे कुछ प्राप्त नहीं होता बल्कि हानि ही हानि होती है राष्ट्र में आतंकवाद और आतंक के प्रभाव को खत्म करने के लिए सरकार के आदेश पर कड़ी सुरक्षा का प्रबंध किया गया है। वहां सभी जगह को किसी भी कारण से भीड़-भाड़ वाली जगह होती है या बन जाती है। जैसे कि सामाजिक कार्यक्रम राष्ट्रीय कार्यक्रम जैसा गणतंत्र दिवस स्वतंत्रा दिवस मंदिर आदि को मजबूत सुरक्षा घेरे में रखा जाता है।

सभी को सुरक्षा नियमों का पालन करना होता है , और ने वाटिका बॉडी विनर मशीन से गुजरना पड़ता है। इस तरह के उपकरणों का उपयोग कर रहे हैं। इस तरह की कड़ी सुरक्षा प्रबंध करने के बाद हम लोग अभी भी आतंकवाद के खिलाफ प्रभावशाली रूप से नहीं खड़े हो पा रहे हैं।भारत सरकार को आतंकवादी गतिविधियों को खत्म करने के लिए कठोर आदमी को उठाना चाहिए ऐसा करने के लिए सबसे पहले कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाना चाहिए जहां जहां पर अंतरराष्ट्रीय सीमा हमारे देश की सीमा को छू रही है

उन समस्त शास्त्रों की नाकाबंदी की जानी चाहिए जिसकी वजह से आतंकवादी सीमा पर शहीद हथियार गोला बारूद और प्रशिक्षण प्राप्त करने में असफल हो जाए आतंकवाद मानव सभ्यता के लिए कलंक है। और किसी भी रूप में बनने नहीं देना चाहिए विश्व के सभी राष्ट्रों को एक होकर इस के समूल विनाश का संकल्प लेना चाहिए ताकि आने वाली पीढ़ी को हम एक सुनहरा भविष्य प्रदान कर सके।

संबंधित जानकारी :

मेरे शहर पर निबंध

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , निबंध , कविताए , भाषण और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल “आतंकवाद पर निबंध | Terrorism essay in Hindi” अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

इस आर्टिकल की इमेज गूगल और pinterest से ली गई है।

धन्यवाद❤️

Leave a Comment