शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi

प्रस्तावना :

Essay on Chess in Hindi : शतरंज हमारे देश के अहम खेलो में से एक है। साथ ही बहुत ही रोचक और आनंददायक खेल है। हलाकि इस खेल को ओलंपिक खेलो में नहीं गिना जाता परंतु इसे पुरे विश्व में पसंद किया जाता है।

निबंध 1 (100 शब्द)

शतरंज सभी खेलो में से अनोखा खेल है। जिसे कोई भी आयु में बड़े ही उमंग के साथ खेला जाता है। शतरंज की शुरुआत भारत में हुई थी। सभी इंडोरखेलों में शतरंज खेलना मुझे ज्यादा पसंद है। यहां खेल अन्य पासो वाली खेलों से बिल्कुल अलग है।

शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi
शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi

अन्य पासों वाले खेलों में हार जीत पूरी तरह से किस्मत पर निर्भर होती है। परंतु शतरंज में हार जीत खेलने वाले व्यक्ति की बुद्धि पर निर्भर करता है। इस खेल को खेलने में दिमाग का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।शतरंज एक प्राचीन खेल है जिसकी उत्पत्ति हमारे देश भारत में ही हुई थी।

निबंध 2 (200 शब्द)

मेरा प्रिय खेल शतरंज है। यह बहुत ही लोकप्रिय खेल है। शतरंज घर के अंदर खेले जाने वाला खेल है। यहां एक चौकोर और लड़की के तख्ते पर खेले जाने वाला खेल है। जिस पर काले और सफेद रंग के 64 खाने बने होते हैं।

इसे एक बार में दो खिलाड़ी ही खेल सकते हैं। इस खेल में 16—16काली वह सफेद रंग की मोरे होती है। दोनों खिलाड़ियों के पास समान संख्या में एक राजा, एक वजीर, दो ऊंट, दो घोड़े, दो हाथी, और 8 सैनिक होते हैं। चौपाट के मध्य में राजा व वजीर रहते हैं। कोनो पर हाथी, घोड़े व उट होते हैं। अगली लाइन में 8 सैनिक होते हैं।

शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi
शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi

खेल का आरंभ सफेद मोहरा वाले खिलाड़ी के द्वारा किया जाता है। इस खेल का मुख्य लक्ष्य शह और मात देना है। शतरंज दिमाग से खेलने वाला खेल है व हार—जीत खेलने वाले व्यक्ति की बुद्धि पर निर्भर करती है। शतरंज का प्रारंभिक नाम चतुरंग था। आजकल विद्यालयों में शतरंज को स्पोर्ट्स के रूप में बड़े जोरों से बढ़ावा दिया जा रहा है। इसलिए बच्चों को भी यह खेल खेलना चाहिए। शतरंज के खेल की प्रतियोगिता अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होती है।

निबंध 3 (250 शब्द)

शतरंज जी से चेस भी कहते हैं एक बहुत पुराना खेल है। चेस बोर्ड में दो लोगों के द्वारा इस खेल को खेला जाता है जिसे समझने के लिए अभ्यास की जरूरत होती है। चैस एक दिमाग वाला खेल है, जिसके खेलने से मानसिक व्यायाम होता है। चैस एक इनडोर गेम है। जिसकी कोई उम्र सीमा नहीं होती है। लेकिन इसे एक समझदार व्यक्ति चल सकता है।

शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi
शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi

इस खेल को खेलने के कुछ नियम व तरीके होते हैं। जिसके आधार पर हम खेलते हैं। शतरंज एक चौकोर तख्त पर खेला जाता है। जिस पर काले और सफेद रंग के 64 खाने बने होते हैं। इससे एक बार में 2 लोग खेल सकते हैं और इस खेल में ढेर सारे मोहरे होते हैं। जैसे कि हाथी, घोड़े, राजा, रानी, सिपाही जैसे आदि मोहरे होते हैं। इन सब की जलेबी पूर्व निर्धारित होती है जैसे की

राजा—जो कि इस खेल का बहुत ही अहम भाग्य होता है और यह किसी भी दिशा में केवल एक कदम चल सकता है।

घोड़ा—कोटा किसी भी दिशा में ढाई कदम चल सकता है।

शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi
शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi

विशप (ऊंट)—यह हमेशा तिरछा चलता है चाहे कोई भी दिशा हो

सिपाही—यह सदैव आगे की ओर चलता है कभी पीछे नहीं हटता और सामान्यतः यहां एक कदम सीधा चलता है परंतु परिस्थिति के अनुसार इसके जाल में परिवर्तन आ जाता है जैसे कि किसी को बांटना हो तो तीर से भी चला सकता है।

रानी (वजीर)—स्थान खाली होने पर यहां किसी भी दिशा में चल सकता है।

हाथी—यहां हमेशा सही दिशा में चलता है।

प्रत्येक खिलाड़ी को अपनी बारी चलने का मौका बारी बारी से दिया जाता है। इस खेल का मुख्य लक्ष्य शह और मात देना है।

संबंधित जानकारी :

हॉकी पर निबंध

क्रिकेट पर निबंध

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , निबंध , कविताए , भाषण और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल शतरंज पर निबंध | Essay on Chess in Hindi अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

इस आर्टिकल की इमेज गूगल और pinterest से ली गई है।

धन्यवाद❤️

Leave a Comment