दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

प्रस्तावना :

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi : दिवाली हिन्दू द्वारा मनाए जाने वाला सबसे बड़ा त्यौहार है। दिवाली को दीपावली के नाम से भी जाना जाता है। इस त्यौहार के शुभ मौके पर सभी के चहेरे पर अलग ही नूर और ख़ुशी होती है। भगवान श्रीराम रावण का वध कर अयोध्या वापस लौटे तभी अयोध्यावासीओ ने दीप जलाए थे। तभी से प्रतिवर्ष यह त्यौहार हर्ष के साथ पुरे देश में मनाया जाता है। आज दिवाली को एक निबंध के रूप में प्रस्तुत करते है।

निबंध 1 (150 शब्द)

दिपावली का त्योहार भारत मे और अन्य कयी देशों में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है I दिपावली को दीप का त्योहार भी कहा जाता है I दिपावली का त्योहार भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है I इसे भारत में बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है I कहा जाता है कि इस दिन भगवान श्री राम ने रावण को पराजित करके और अपना १४ वर्ष का वनवास काट कर अयोध्या वापस लौटे थे I

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

भगवान राम के आने की खुशी में वहां के सभी लोगों ने दिए जलाए थे I तबसे लेकर अबतक हर वर्ष इस दिन को दिपावली के त्योहार के रूप मे मनाया जाता है I इस त्योहार को बच्चे, बूढे और बड़े हर कोई बहुत ही खुशी और धूमधाम से मनाते है I

दिपावली की रात पूरा भारत जगमगाता है I इस दिन लोग पटाखे भी जलाते है I दिपावली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है I भारत ही नहीं बल्कि और भी देशों मे दिपावली का त्योहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है I

निबंध 2 (250 शब्द)

दिपावली का त्योहार हिन्दुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है I दिपावली को दीप का त्योहार भी कहा जाता है I यह आसो मास में अमावस्या के दिन मनाया जाता है I यह कहा जाता है कि इस दिन भगवान श्री राम रावण का वध करके और १४ वर्ष का वनवास काट कर अपने घर अयोध्या वापस लौटे थे, जिसकी खुशी में अयोध्या वसुओं द्वारा घी के दीप जलाये थे यह त्योहार उसी दिन की स्मृति में प्रतिवर्ष मनाया जाता हैI

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

इस त्योहार को मनाने के लिए शानदार तैयारियां की जाती है I घरों की सफ़ाई की जाती है उनमे सफ़ेदी की जाती है और उन्हें सुंदरता के साथ सजाया जाता है I लोग मिठाई और खिलौने खरीदते है I घर घर मे अलग अलग तरह के व्यंजन और पकवान बनाए जाते है I

दीपावली की रात पूरा भारत दिए कि ज्योत से जगमगा उठता है I रंगबिरंगी लाइट, दिए, मोमबत्ती आदि से पूरे भारत को नयी दुल्हन की तरह सजाया जाता है I दिपावली की शाम धन की देवी लक्ष्मी और गणेश भगवान की पूजा की जाती है I पूजा करने के बाद सभी लोग अपने पड़ोसी और रिश्तेदारों को प्रसाद, मिठाई आदि देकर एक दूसरे हिन्दू धर्म के नए साल की को शुभकामनाएं देते है I इस दिन लोग पटाखे, फुलझडी आदि जलाते है I दीपावली के त्योहार को बुराई पर अच्छाइ की जीत का प्रतीक माना जाता है I भारत ही नहीं बल्कि और भी कयी देशों में दिपावली का त्योहार बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है I

निबंध 3 (300 शब्द)

दिवाली का त्योहार सभी लोगों को खुशियाँ देनेवाला त्योहार है । इसे दीपावली भी कहते है । यह त्योहार हर साल अक्तूबर या नवम्बर में मनाया जाता है । ऐसा कहा जाता है कि , भगवान राम चौदह साल का बनवास पूरा करके दिवाली के दिन वापस अयोध्या लौटे थे।

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

इस खुशी पर अयोध्या का हर घर रास्ता फूलों से , दीयों से सजाया था । तभी से यह त्योहार मनाया जाता है । दिवाली का त्योहार धनतेरस से भाईदूज तक पाँच दिन मनाया जाता है ।

दिवाली का त्योहार धनतेरस से भाईदूज तक पाँच दिन मनाया जाता है । दिवाली आने पर लोग अपने घर , दुकान कार्यालय आदि की रंगबिरंगे फूली से , दीपों से , सुंदर रंगोलियों से सजाते है । दिवाली में स्कूल , कॉलेजों को छुट्टियों दी जाती है । घर – घर में स्वादिष्ट पकवान जैसे लड्डू , करंजी , अनारसे , कडबेले , जलेबी आदि बनवाए जाते है । बच्चों को यह पकवान बहुत पसंद होते है । लोग नए बर्तन , सोने – चांदी के गहने , कपडे आदि चीजे भी खरीदते है । लीग दियों कीरोशनाई की आरास करते है । एक – दूसरे को मिठाईयों बाँटते है । अतिथि घर आते है।

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

किसान दिवाली में गाय – भैसों की पूजा करते है । व्यापारी लोग नए खाते लिखते है । लोग देवी लक्ष्मीमाता , देवी सरस्वती माता और भगवान गणेशजी का पूजन करते है । दिवाली में ठंड की शुरुआत होती है।सृष्टी की शोभा हरसाल दिवाली आती है और चली जाती है , मगर मन में नयी उमंग भर जाती है । दिवाली सभी को प्यार , एकता , भाईचारा और आनंद का संदेश देकर पाती बढ़ जाती है ।

“सोने और चाँदी की बरसात निराली हो ,
घर का कोई कोना दौलत से न खाली हो ,
सेहत भी रहे अच्छी चेहरे पे लाली हो ,
हँसते रहे आप खुशहाली ही खुशहाली हो।”

निबंध 4 (350 शब्द)

भारत त्यौहारों के रूप में जाने जाना वाला देश है। दीपावली या दिवाली यहाँ मनाये जाने वाले त्यौहारों में से सबसे प्रसिद्ध त्यौहार है। दीपावली का त्यौहार प्रतिवर्ष आसौ मास की अमावस्या को मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्री रामचंद्र जी १४ साल का वनवास काटकर तथा रावण संहार करके लक्ष्मण और सीता जी के साथ अयोध्या वापिस आए थे। उनके वापिस आने की ख़ुशी में अध्योध्यावासीओ ने दीप जलाकर और पुरे अयोध्या में रंग बिरंगी रंगोलिया बनाकर भगवान श्री राम , लक्ष्मण और सीताजी का स्वागत बड़े हर्षोल्लास से किया था। इस लिए इस त्यौहार को दीपावली कहा जाता है। यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक है।

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

दीपावली का त्यौहार ५ दिन तक मनाया जाता है। पहला दिन धनतेरस या धन त्रयोदशी का होता है। इस दिन लोग बर्तन, धातु व सोने के आभूषण आदि खरीदते है। दूसरा दिन नरक चतुर्दशी, रूप चौदस या काली चौदस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान करने से समस्त पाप धूल है। तीसरा दिन दीपावली का होता है बच्चे और बड़े नए कपडे पहनते है और एक दूसरे को दीपावली की बधाईया देते है। इस रत लक्ष्मी माता की पूजा की जाती है और उनके स्वागत के लिए दीप जलाए जाते है।

घरो में अलग-अलग तरह की मिठाईया बटति है। बच्चे पटाखे जलाते है और महिलाए रंगोलिया बनाती है। दीपवलो वाले दिन रौशनी से सारा आसमान , चौथा दिन अन्नकूट या गोवर्धन पूजा का होता है। इस दिन घर के पालतू बैल , गे, बकरी, आदि को स्नान कराकर उन्हें सजाया जाता है कई जगहों पर इस दिन न्य साल मनाए की खुशिया और सुभकामनाए बाटी जाती है। पांचवा और आखरी दिन भाई दूज का होता है। इस दिन बहन अपने भाई को तिलक लगाती है और उसकी लंबी उम्र की कामना करती है।

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

इस प्रकार दीपावली का त्यौहार सभी वर्गों के लोगो द्वारा बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है।

“भगवान करे हर घर में हो उजाला,
आये ना कभी कोई रात काली,
हर घर में हो खुशियाँ,
हर घर में हो रोशन दीपावली। “

निबंध 4 (400 शब्द)

दीपावली भारत में मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है I दिपावली हिन्दू धर्म का सबसे बड़ा त्योहार है I इस त्योहार को भारत के लगभग सभी राज्यों में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है I यह त्योहार दशहरा के २० दिन बाद आता है I ये हर साल अक्तूबर या नवंबर में आता है

हिन्दू मान्यता के अनुसार भगवान राम के १४ वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटने के दिन को दीपावली के रूप मे मनाया जाता है I भगवान राम १४ वर्ष के वनवास के बाद घर लौटे थे I इस बीच भगवान राम ने रावण का वध किया था I जिस दिन रावण का वध हुआ उस दिन को दशहरा के रूप मे मनाया जाता है I वध के ठीक २० दिन बाद भगवान राम घर लौट आए उसी दिन भगवान राम के स्वागत में दीप जलाये गए और अन्य प्रकार के प्रकाश से घरों को सजाया गया I ठीक वेसे ही आज हम अपने घरों को दिपावली से पहले सजाते है I मानो हर साल भगवान राम वनवास से घर लौट रहे हो I

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

दिपावली पर सभी नए कपड़े पहनते है I और घरों में मिठाइयाँ बनती है I मिठाइयाँ और नए कपडों को गरीबों में बांटा जाता है I जो लोग दिपावली पर नए कपड़े नहीं खरीद सकते हमे उन्हें मिठाइयाँ और नए कपड़े देने चाहिए I

दिपावली के दो दिन पहले धनतेरस आती है I ऐसा माना जाता है कि धनतेरस के दिन कुछ ना कुछ जरूर खरीदना चाहिए I कुछ लोग बर्तन खरीदते है तो कुछ सोने एवं चांदी के जेवर I दिपावली में बच्चों में अलग सा उत्साह होता है I बच्चे घर मे ही छोटा मिट्टी का घर बनाते है और मिट्टी के ही छोटे छोटे बर्तन बनाते है I लड़कियां ईन दिनों में घर के अंगन में रंगरलियां बनाती है I

पर वर्तमान की दिपावली पहले की दिपावली से बहुत अलग हो गई है I पहले की दिपावली में लोग दीपक जलाते थे I और यह दीपक मिट्टी के बर्तन से बने होते थे जो कुम्हार वर्ग के लोगों द्वारा बनाए जाते थे I यह मिट्टी के दिए ना खरीद कर हम चायनीज इलेक्ट्रिक लाइट खरीदने लगे है I जिसके कारण कुम्हार द्वारा बनाए गए दियों की बिक्री नहीं होती और उनकी पूरी मेहनत बेकार जाती है I हमे हमेशा इनसे ही दिए खरीदने चाहिए और चाइनीज लाइट का प्रयोग नहीं करना चाहिए I

दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi
दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi

हमे पटाखों का ज्यादा उपयोग नहीं करना चाहिए I प्रत्येक वर्ष हमे दिपावली के बाद भारी प्रदूषण का सामना करना पड़ता है I कयी राज्यों में पटाखों पर प्रतिबंध लगा है पर फिरभी लोग पटाखों का उपयोग करते है, हमे एसा नहीं करना चाहिए I अगर खुशियां माननी ही है तो उन पटाखों के पैसों से हमे गरीबों के लिए कुछ खरीद कर उनमे खुशिया बांटनी चाहिए I

संबंधित जानकारी :

दशहरा पर निबंध

क्रिसमस पर निबंध

रक्षाबंधन पर निबंध

होली पर निबंध

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , निबंध , कविताए , भाषण और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

इस आर्टिकल की इमेज गूगल और pinterest से ली गई है।

धन्यवाद❤️

Leave a Comment