मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi : दोस्ती एक ऐसा नाता है जो कभी नाती-जाती का भेद नहीं करता। दो लोगो के मन का मिलन है दोस्ती। आज हम आपके लिए सच्चे दोस्त और दोस्ती की कविताए लाए है। जिसमे दोस्ती अच्छी तरह से तरासी गई है। अगर आप अपने प्रिय मित्र को काव्य के रूप में स्नेह व्यक्त करना चाहते हो तो आप यह भेज सकते है।

१) तू बेस्ट है यार – Poem on Friendship in Hindi

हम सभी की जिंदगी में एक न एक खास दोस्त होता ही है।

जो मुंहफट तो होता है मगर दिल का बहुत साफ़ होता है।

एक ऐसा दोस्त जो हमें , यानि की तुम्हे और तुम्हारे जैसे बाकि को,
उनकी गलतिया एक दम खुली किताब की तरह बता देता है।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

और यार मज़े की बात तो ये है की ,
ऐसे दोस्तों से दोस्ती की नहीं जाती बस हो जाती है।

फिर चाहे वो मोहल्ले का हो ,
या स्कूल में बैंचमेट या संग ट्यूशन पढ़ने वाला ,
या फिर कॉलेज में मिला कोई।

एक पूरा बम्पर ऑफर होते है ऐसे लोग ,
इनके साथ कुछ भी शेयर करने के पहले एक बार भी सोचा नहीं जाता।
फिर चाहे अपने क्रश के बारे में बताना हो या फिर ,
अपने फेवरिट सॉन्ग का फेवरिट पार्ट डिस्कस करना हो।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

बिना फ़िल्टर ,
बस इनके सामने तुम जो हो ,
वैसे ही रहते हो।

और ये दोस्त खुली बहो से तुम्हे एक्सेप्ट करते है।

तुम्हारे लिए ये अपनी फेवरिट मूवी का ,
जिसका इन्हे इतने दिनों से इंतज़ार था ,
वो भी स्किप करदेंगे।

२) एक ऐसा यार चाहिए – Poem on Friendship in Hindi

एक ऐसा यार चाहिए जो साथ निभाना जनता हो ,
औरो की तरह टेम्पररी बन कर न रहे।

एक ऐसा यार चाहिए जो मेरे गानो के पीछे के जस्बात समझे ,
मेरी गलत लिरिक्स को सही न करता रहे।

जो हाल पूछे बगैर ही हालत समझ जाए ,
जो एक शब्द सुनते ही बिन बोले मेरी बात समझ जाए।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

एक ऐसा यार चाहिए जिसके साथ में हसु भी ,
रोउ भी और जगडु भी।

एक ऐसा यार चाहिए आज के ज़माने में जिसके नाम में ये कविता कर सकू।

३) है एक मेरी दोस्त – Poem on Friendship in Hindi

है एक मेरी दोस्त , जो दोस्त बढ़कर है ,
पर देखने वाले हमें दोस्त नहीं समझते ,
उन्हें तो यही लगता है , इनका जरूर कोई चक्कर है।

रिश्ता हमारा भी टॉम एण्ड जेरी से मिलता जुलता ही है ,
हमारा जगड़ा किसी लड़ाई जैसा लगता ही नहीं है।

मेरे उदास होने में मेरी मुस्कुराहट की वजह भी वही बनती है ,
उनकी ज़िंदगी के किस्से कभी खत्म नहीं होते , वो बोलना शुरू करे तो रूकती ही नहीं है।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

दिखाती नहीं पर खुद से ज्यादा परवाह करती है मेरी ,
ख़ुशी हो या तकलीफ , मुझे कभी अकेला पड़ने नहीं देती।

जो लोग मुझे नापसंद है वो अपने आप ही उसे नापसंद हो जाते है ,
आखो के इशारे से ही सारी बात समझ आ जाती है।

तो है एक मेरी दोस्त ,
जो दोस्त बढ़कर है ,
पर देखने वाले हमें दोस्त नहीं समझते ,
उन्हें तो यही लगता है , इनका जरूर कोई चक्कर है।

४) एक वो दोस्त – Poem on Friendship in Hindi

एक वो दोस्त जिसके साथ बाते हझार होती है ,
पर मुलाकाते कभी कभी।

फोटोज़ भी साथ में बहुत कम है ,
पर यादो की तो गिनती ही नहीं।

एक वो दोस्त जिसके साथ बात करते वक्त ,
और बता न बोलना पड़े।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

जो तुम्हे सर पर चढ़ा कर नहीं ,
दिल में बसाकर रखे।

जो सामने भले हसे तुम्हारे ,
पर वही तुम्हारी सबसे ज्यादा परवाह करता हो।

ज़िंदगी में तुम्हारी कुछ भी घटा हो तो तुम सबसे पहले उसे बताओ ,
जो मूवी तुमने देखी है , वो जबरदस्ती उसे दिखाओ ,
ताकि उस मूवी के बारे में तुम उससे बात कर पाओ।

एक वो दोस्त जिससे यार बोल कर रिश्ता बना था ,
एक वक्त के बाद वो परिवार बन गया और पता भी न चला।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

एक ऐसा दोस्त ,
जो दोस्त से बढ़कर हो ,
जिसके साथ तुम्हारा एक अलग ही कनेक्शन हो।

किसी दिन उससे बात करने का मन तुम्हारा भी हुआ ही है ,
और उसी वक्त उसका फ़ोन आ जाए।

उसे तुम्हे बाते ज्यादा डिटेल में बताने की जरूरत ही न पड़े ,
क्युकी अंडरस्टैंडिंग ही ऐसी है की पहले ही समझ जाए।

तुम्हे घर आने में देर हो गई हो ,
और फ़ोन तुम्हारा लग नहीं रहा ,
तो घर वाले भी सबसे पहले उसी से जाकर पूछेंगे ,
तुम दोनों साथ में होतो बात करना जरा।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

एक दूसरे को परेशान करने से लेकर ,
एक दूसरे को गले लगाने तक ,
एक अजनबी के साथ स्कूल में सीट शेयर की ,
और बेस्ट फ्रेंड बन जाने तक का सफर।

एक ऐसा दोस्त जो तुम्हारे साथ हर पल में शामिल होता है ,
एक ऐसा दोस्त जो आज की दुनिया में मिलना मुश्किल होता है।

यह सब पढ़ते पढ़ते तुम्हे अभी जिसका भी ख्याल आया है ,
उसे बता दो की में खुशकिस्मत हु ,
जो तेरे जैसा यार पाया है।

५) डिअर दोस्त – Poem on Friendship in Hindi

अभी तक काफी दोस्त मिले है मुझे ,
पर जब भी दोस्ती शब्द सुनता हु ,
तो तेरा ही नाम याद आता है सबसे पहले।

सारे तो दोस्ती जताते ही रह गए ,
पर निभाना सिर्फ तुजे आया।

खुद से ज्यादा दुसरो के बारे में सोचने वाले लोग भी होते है ,
ये तुजसे मिल के ही समझ आया।

कितनी सलाह दी , कितनी मदद की ,
इन सबके आगे सुक्रिया कहना तो कुछ भी नहीं होगा।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

मेरी बात को समजा जब में खुद को नहीं समझ रहा था ,
फिर तुजे दोस्ती का पर्याय कहना भी गलत नहीं होगा।

जो बात किसी से नहीं कह सकता ,
वो बात तूने सुनी ,
और लोग तो जज करते है ,
बस तूने मुझे हिम्मत दी।

ऐसे ही रहेंगे हम हमेशा ,
बदलना नहीं ,
चाहे जितने भी नये दोस्त आये ,
इस पुराने यार को भूलना नहीं।

कभी कभी सोचता हु ,
तू नहीं होता तो मेरा क्या होता ,
जो बात में किसी को बताता नहीं ,
वो तुजे पहले से ही पता होती।

मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi
मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi

तुजसे बात करना जैसे खुद से बात करना हो ,
हमारी सोच भी कितनी मिलती है।

वैसे दोस्त तो कई है ,
लेकिन एक जो बेस्ट फ्रेंड होता है ना वो तू ही है।

मतलब जैसे लोगो की भीड़ में तुम न हो तो खाली सा लगता है ,
तेरे साथ ही बैठती है अपनी यारी ,
औरो के संग मामूली सा लगता है।

में अपना गुस्सा भी तेरे सामने ज़ाहिर कर सकता हु ,
सबके साथ हसलू भले लेकिन सिर्फ तेरे साथ रो सकता हूँ।

क्युकी मुझे पता है तू मुझे कभी जज नहीं करेगा ,
पहले मजाक में हसले सायद लेकिन मेरी बात तू ही समजेगा।

तो डिअर फ्रेंड ऐसे ही रहना हमेशा बदलना नहीं ,
कितना भी कुछ हो जाये भूल मत जाना।

#६. पुराने दोस्त – Poem on Friendship in Hindi

मै यादो का पिटारा खोलू तो ,
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

में गांव की गलियों से गुजरू पैड की छाव में बैठू तो ,
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

वो हस्ते मुस्कुराते दोस्त न जाने किस शहर में गुम हो गए ,
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

जब में मनाता हु कोई त्यौहार तो हस्ते गाते दोस्त नजर आते है ,
लेकिन अब तो होली , दीपावली पर भी मिलना नहीं होता।

कोई पैसा कमाने में व्यस्त है ,
तो कोई परिवार चलाते में व्यस्त है ,
याद करता हू पुराने दिन तो ,
कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

 पढ़े : Yoga Slogan in Hindi

इस आर्टिकल की इमेज गूगल और pinterest से ली गई है।

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , निबंध , कविताए , भाषण और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल “मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi” अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

धन्यवाद❤️

1 thought on “मित्रता पर कविता | Poem on Friendship in Hindi”

Leave a Comment