बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

प्रस्तावना :

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi : देश में भ्रूणहत्या, बलात्कार, अत्याचार जेसे बड़े अपराधों से देश मे हो रही बेटियों की संख्या मे लगातार कमी को ध्यान में रखते हुए प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदीजी ने बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना की शुरुआत की है I इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश मे सामाजिक और आर्थिक कारणों से हो रही बालिका भ्रूणहत्या, शिक्षा न मिल पाना, सुरक्षा न मिल पाना, बलात्कार, अत्याचार आदि कुकर्मों को पूरी तरह से खत्म कर देना और देश मे बेटियों के प्रति लोगों की विचार धारा में सकारात्मक बदलाव लाना है I

#कविता 1 – Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

जीवन का आधार है बेटियाँ,
किसी पुष्प का सार है बेटियाँ,
ममता का भंडार है बेटियाँ,
वहीं काली दुर्गा का रूप है बेटियाँ I

हर क्षेत्र मे कंधे से कंधा मिलाकर कर चल ने लगी है बेटियाँ,
लड़कों को पिछे छोड़कर सवेरे करने लगी है बेटियाँ,
अपमान मत करना कभी बेटियों का दोस्तों,
आसमान की ऊंचाई को भी छुने लगी है बेटियाँ I

लेकिन आज भी कयी जगह पिछे छुट गई है बेटियाँ,
हैवान की आग से झुझ रही है बेटियाँ,
रावण भी इनसे कयी बेहतर था दोस्तों,
पर अत्याचारों के प्रकोप में आज भी डूब रही है बेटियाँ I

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

मर्द भी कहते हैं कि अकेली बेटी महफूज नहीं है यहा,
जिसका का कारण भी केवल मर्द ही है यहा,
कल तेरी, आज मेरी, कब तक जिंदा जलती रहेगी बेटियाँ,
कब तक यही गंगा में डूब खुद को पवित्र करती रहेगी बेटियाँ I

सुनसान सड़क पर कब तक चल नहीं पाएगी बेटियाँ,
छोटे कपड़े पहन कब तक निकल नहीं पाएगी बेटियाँ,
इन दरिंदों को जब तक जला नहीं पाएगी बेटियाँ,
जीवन मे कभी मुस्कुरा नहीं पाएगी बेटियाँ I

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

निर्भया देखी, प्रियंका देखी, देख ली मनीषा भी,
मोमबत्ती भी जला ली बहुत, बचा ली और पढ़ालि बेटियाँ भी,
हुआ भगवान को भी आज बहुत पछतावा है,
कि उसने ईन हैवानों को क्यों धरती पर उतारा है I

आज जरूरत है खुद आगे बढ़ जाने की,
संस्कारों की ओर महिलाओं की इज़्ज़त नयी पीढ़ी को सिखाने की,
ताकि यह बलात्कार, अत्याचारों का मंजर खत्म हो भविष्य में,
चमचमाते रास्ते से बढ़ कर बेफिक्र घूमे बेटियाँ गालियों में I

#कविता 2 – Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

मत मारो तुम कोख में इसको,
इसे सुन्दर जग में आने दो,
छोड़ो तुम अपनी सोच पुरानी,
एक माँ को खुशी मनाने दो,
बेटी के आने पर अब तुम,
घी के दिए जलाओ,
आज ये सन्देशा पूरे जग में फैलाओ,
बेटी बचाओ बेटी पढाओ ।

लक्ष्मीका कोई रूप कहे है,
कोई कहता दुर्गा काली,
फिर क्यों न कोई चाहे घर मे,
इक बिटिया प्यारी प्यारी,
धन्य ये करदे जीवन सबका,
जो तुम इस पर प्यार लूटाओ,
आज ये सन्देशा पूरे जग में फैलाओ,
बेटी बचाओ बेटी पढाओ I

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

ये आकाश मे गोते लगाती,
यही तो कहलाती मर्दानी,
यही तो ही कल्पना चावला,
यही तो है झासी की रानी,
इनको देकर कर के पूरी शिक्षा,
अपना कर्तव्य निभाओ,
आज ये सन्देशा पूरे जग में फैलाओ,
बेटी बचाओ बेटी पढाओ I

हाथों में राखी ये बांधे,
घर में बहू बन आए,
बनकर कर बेटी शैतानी करे,
माँ बनकर ये समजाये,
इसका तुम सम्मान करो,
और सबको यही सीखाओ,
आज ये सन्देशा पूरे जग में फैलाओ,
बेटी बचाओ बेटी पढाओ I

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

बिन बेटी बेटी के सोचो की,
ये दुनिया केसी होगी,
न प्यार ही होगा माँ का,
न बहनो की राखी होगी,
जिस कदम से रुके जाए दुनिया,
वो कभी भी न उठाओ,
आज ये सन्देशा पूरे जग में फैलाओ,
बेटी बचाओ बेटी पढाओ I

बादलों ये आदत है जो,
अब भी बदली जाती,
बेटे बांटे दोलत सारी,
बेटी है दर्द बांटती,
मत फर्ज से पिछे तो भागों,
अपनी आवाज़ उठाओ,
आज ये सन्देशा पूरे जग में फैलाओ,
बेटी बचाओ बेटी पढाओ I

#कविता 3 – Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

मेरे होने अहसास नहीं है,
पर वो दिन क्या खास नहीं है,
जिस दिन में घर आयी थी,
मम्मी तो मुस्कराई थी,
पापा भी चहक उठे थे,
फिर क्यों दुनिया ने नहीं दी बधाई थी…!!

लड़की हुई है ये सुनकर सबसे मुह क्यों उतर गए,
बधाई देने वालों के शब्द क्यों तानों में बदल गये,
लड़की हु मैं बोझ नहीं, किस किस को समझाउ में,
लड़कों से हम कम नहीं, क्यों तुमको बताऊँ में…!!

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

भूल गए हों तुम शायद लड़की से है जग सारा,
तुम ना होते आज अगर माँ ने,
ना होता तुमको ९ महीने कोख में पाला…!!

तो क्यों खुश नहीं होते हो तुम लड़की के होने पर,
क्यों कुछ मासूमों को मार देते हो उनके होने पर,
उनका क्या कसूर, उनको भेजा है जग में भगवान ने,
तुम कौन होते हो ये फेसला करने वाले के,
हम रहेंगे या नहीं इस संसार मे…!!

लड़की से ही तुम ही हो लड़की से है ये जग सारा,
क़द्र करो और समानता लाओ,
कहीं हो ना जाए बंजर जग सारा…!!

#कविता 4 – Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

उसने सारी कुदरत को भुलाया होगा,
और उसने ममता को भी समाया होगा,
कोशिस रही होगी परियो को जमीन पर लाने की,
जब जाकर खुदा ने बेटियों को बनाया होगा।।

क्या क्या कमाल करके दिखाती है बेटियां
तूफान में भी चिराग जलाती है बेटिया,
बेटा तो सिर्फ एक कुल की शान बने,
दो दो कुलो का मान बढ़ाती है बेटियां।।

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

जिस साचो में ढालोगे ढल जायेगी,
जैसे चाहोगे बेटी है पल जायेगी,
कर हवा से हिफाज़त तनेय सीच दो,
दीप बन के आँगन में जल जायेगी,
बेटियों को सहेजो बड़े प्यार से,
आज है तो कही कल निकल जायेगी।।

नर के मन से नारी का सन्मान नही जा सकता है,
इस पावन धरती से वेदो का ज्ञान नहीं जा सकता है,
एक बेटा है जो माँ से hii, hello.. ! करके चलता बना,
अगर बेटी है तो घर से महेमान भूखा नही जा सकता है।।

अभी माटी के पुतले में कही ईमान ज़िंदा है,
तभी तो देश की समृद्धि का अरमान ज़िंदा है,
ना अब बेटो से उम्मीद, न बातो पर भरोसा है,
बेटियो की वजह से ही तो हिंदुस्तान ज़िंदा है।।

#कविता 5 – Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी ये कोख से बोल रही,
मां कर दे मुझे उपकार,
मत मार मुझे जीवन दे दे,
मुझको भी देखने दे संसार….।

बिना मेरे मां तुम भैया को ,
राखी किससे बंधवाओगि,
मरती रही कोख की हर बेटी,
तो बहु कहा से लाओगी…।

बेटी ही बहन, बेटी ही दुल्हन,
बेटी से ही होता परिवार है,
बिना नारी प्रीत अधूरी है,
नारी बिन सुना है घर–बार…।

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

दादी नारी तुम भी नारी,
सबको समझाके देखो तो ,
मानेंगे पापा भी अब माँ,
तुम बात बता के देखो तो…।

नही जानती में इस दुनिया को,
मेने जाना माँ बस तुमको,
मुझे पता तुझे है फिक्र मेरी,
तू मार नहीं सकती मुझको…।

फिर क्यों इतनी मजबूर है तू माँ,
क्यों है तू इतनी लाचार,
बेटी ही समझे माँ का दुःख,
कर लो तुम बेटी को स्वीकार…।

गर मैं न हुई तो मां तू ,
किसे दिल की बात बताओगी,
मतलब की इस दुनिया मैं मां,
तू घुट घुट के रह जाएगी…।

मतलब की इस दुनिया में मां,
तू घुट घुट के रह जाएगी…।

#कविता 6 – Beti Bachao Poem in Hindi

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

माँ में कुछ कहना चाहती हूं,
मैं भी जीना चाहती हूं,

तेरे आंगन की बगिया में,
चाहती मैं हूँ पलना,
पायल की छम-छम करती माँ,
चाहती मैं भी चलना I

तेरी आखों का तारा बन,चाहती झिलमिल करना,
तेरी सखी सहेली बन माँ, चाहती बातें करना I

मान तेरे घर का मैं मां, चाहती मैं भी पढ़ना,
हाथ बटा कर काम मे तेरे, चाहती हूं कम करना ।

तेरे प्यार दुलार की छाया,चाहती में भी पाना,
चहक चहकर चिड़िया सी, चाहती हूं में भी उड़ना,
महक महक कर फूलों सी, चाहती मैं भी खिलना I

मत सीख दो दुनिया को,
कि बेटी बचाओ बेटी पढाओ,
लोग समझ जाएंगे अपने आप,
बस अपनी बेटियों को आगे बढ़ाओ I

बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi
बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi

एक कदम अगर वो रखने के लिए तैयार हो,
तो तुम उसे पूरा रास्ता समझाओ,
कोशिश उनकी भी होगी कोशिश तुम भी करो,
अपनी बेटियों को उनकी मंजिल तक पहुँचाओ ।

हिम्मत दो उनको ताकि बीच मे कभी हार ना माने,
अपनी बेटी को हर अच्छा रास्ता दिखलाओ,
मत सीख दो दुनिया को,
कि बेटी बचाओ बेटी पढाओ,
लोग समज जाएंगे अपने आप,
बस अपनी बेटियों को आगे तो बढ़ाओ I

अपनी बेटियों को लड़के लडकियों के बीच का अंतर मत बताओ,
बढ़ सकती है वो बेटों से भी आगे,
उन्हें उनके साहस का एहसास तो दिलाओ ।

नहीं आपकी बेटियाँ कमजोर किसीसे,
उन्हें कदम बढ़ाना तो सीखाओ,
नाम रोशन करेगी वो आपका,
एक बार तुम बेटे बेटी में फर्क तो हटाओ I

संबंधित जानकारी :

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , निबंध , कविताए , भाषण और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल “बेटी बचाओ पर कविता | Beti Bachao Poem in Hindi” अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

इस आर्टिकल की इमेज गूगल और pinterest से ली गई है।

धन्यवाद❤️

Leave a Comment