Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi : बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध: बेटी बचाओ, बेटी पढाओ यह एक राष्ट्रीय स्तर का अभियान है जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 22 जनवरी 2015 को शुरू किया गया था। यह अभियान भारत सरकार द्वारा सभी कल्याणकारी योजनाओं की प्रभावशीलता में सुधार के लिए बनाई गई है, इस योजना का मुख्य हेतु भारत देश में बालिकाओं के लिए जागरूकता फैलाना हैं। कल्याणकारी योजना बेटी बचाओ, बेटी पढाओ का अर्थ है ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ।’

यह योजना मुख्य रूप से हरियाणा के लिए बनाई गई थी , क्यों की हरियाणा में बेटियों एवं बालिकाओ को बहुत महत्व नहीं दिया जाता इसी वजह से बेटियों और बालिकाओ के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए शुरू की गई थी। क्योंकि हरियाणा राज्य में सबसे कम महिला लिंगानुपात है। बेटी बचाओ योजना का मुख्य हेतु भ्रूण हत्या और लिंग निर्धारण को रोकना था। इसी के साथ महिलाओ और बालिकाओ को सुरक्षा प्रदान करना और इस पॉइंट जे ऊपर जागरुतता लाना हैं।

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi
Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

यह “बेटी बचाओ बेटी पढाओ” योजना अभी के समय में चल रहे महिला बच्चों के खिलाफ भेदभाव दूर करने के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया हैं , भारत के लोगो की अंधश्रद्धा और मानसिकता जो अभी के समय में चल रही हैं उसे दूर कर संपूर्ण समाज में सुधार और लिंग असंतुलन को दूर करने के लिए शुरू की गई हैं। यह एक “बेटी बचाओ बेटी पढाओ” एक सामाजिक योजना है। इस योजना योजना का एक नजरिया महिला अनुपात भी हैं। इन्ही सब मुद्दों को ध्यान में रखते हुए नरेंद्र मोदीजी (प्रधान मंत्री) द्वारा 22 जनवरी 2015 को इस अभियान एवं योजना को शुरू किया गया था।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ इस योजना में कई सारे निजी फिर भी महत्वपूर्ण मुद्दे शामिल हैं – जिसमे से एक हैं , दिन प्रतिदिन महिलाओं के खिलाफ बढ़ते हुए अपराध और लिंगानुपात। हमारे समाज एवं जाती में अभी भी कई लोग पुरानी रूढ़ि को नजर रखते हुए , उसे बढ़ावा देते हुए एक एक बालिका अपने परिवार के लिए एक बोझ के रूप में दोषी ठहराते है। इसी मुख्य समस्या के कारण, हमारे देश में कन्या भ्रूण हत्या और महिला गर्भपात (लिंग अनुपात) बड़ी ही विपुल प्रमाण से हो रहा हैं।

Read this article… 10+ Best Horror Story in Hindi

जिसकी वजह से स्त्रियों की संख्या एवं बालिकाओ में भारी गिरावट दिखाई दे रही हैं। हमारे देश की जनगणना(जनसंख्या) 2011 के मुताबिक पता चला कि भारत में प्रति 1000 पुरुषों के सामने 943 महिलाएं ही शामिल हैं। इस प्रकार लैंगिक भेदभाव के मौजूदा पूर्वाग्रह को रोकने के लिए, बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना शुरू की गई थी।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं को इन सभी चीजों से बचाना, उन्हें लड़को से कम न समज कर उचित शिक्षा देना और पूरी सुरक्षा प्रदान करना हैं। इसी के साथ व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास में उनकी सहायता करना भी हैं।

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi
Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

इस अभियान को चलाकर , इसके दम पर हमारे पूरे देश में कन्या भ्रूण हत्या को संपूर्ण रूप से खत्म करना है। इस परियोजना का मुख्य हेतु में से एक हेतु यह भी हैं की “महिला लिंगानुपात” की गिरावट को रोका जाए , इस प्रकार योजना से जुड़ कर हमारे देश में महिलाओं की स्थिति में अच्छा परिवर्तन कर के महिला की मानसिक एवं सशक्तीकरण को बढ़ावा देना है। इस योजना के शुरु करने का मुख्य कारण हरियाणा बना था। क्यों की हरियाणा राज्य में सबसे कम महिला लिंग अनुपात- 775/1000 थे। हाल के समय में यह योजना समग्र देश भर के जिल्लो और राज्यों में एक अभियान के तोर पर प्रभावी रूप से लागू हो गई है।

यह अभियान भारत सरकार और त्रि-मंत्रालयीय कल्याण समूहों द्वारा एक संयुक्त उद्यम है-

  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय।
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय।
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय।
Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध

इसके उपरांत , “बेटी बचाओ बेटी पढाओ” यह अभियान को एक संघीय अभियान माना जाता हैं जिसमे लगभग सभी जिल्लो , राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल किया जाता है। यह महिला लिंगानुपात 100 जिलों में एक बहु-क्षेत्रीय और केंद्रित आंदोलन है। इस योजना का उद्देश्य इसके प्रभाव का मूल्यांकन करना और 12 वीं पंचवर्षीय योजना के पूरा होने पर आवश्यक सुधारात्मक कदम उठाना है।

Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi
Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi

हालांकि शुरूआती तोर पर , इस बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना को गति प्राप्त करने के लिए कई सारी मुश्केलियो का सामना करना पड़ा था।जिसमे निचे के मुद्दे शामिल हैं।

  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान , सरकारी पुलिस और मशीनरी कार्यालय के बीच गंभीरता का कारण बनने में असफल रहा।
  • सभी के सपोर्ट के बिना सामाजिक कार्य अधूरा है इसी तरह योजना में नागरिक एवं लोगो का पूरा समर्थन और सपोर्ट न मिल पाया।
  • भारत में बरसों से प्रचलित रूढ़ि , रिवाजों , सामाजिक मान्यता के द्वारा बहिस्कार किया गया।
  • भारत में प्राचीन समय से प्रचलित दहेज प्रथा का विरोध भी इसमें शामिल हैं।
  • अभियान अथार्त परीयोजना की सफल न होने का सबसे बड़ा कारण लोगों की रूढ़िवादी मानसिकता है।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ मिशन ने तीन महत्वपूर्ण प्रभाव लाने का लक्ष्य रखा- बालिकाओं को शिक्षा की प्राप्ति, पुरुष-महिला अनुपात का संतुलन, और फिर बाल अधिकारों के फोकस को उजागर करना।

इस का निष्कर्ष यही निकलता हैं की , “बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना” का उद्देश्य हमारे समाज और देश में फैले भेदभाव और असंतुलन को दूर करना और लड़कियों को मान-सम्मान और सामाजिक स्वतंत्रता प्रदान करना है। इसकी जागरुतता लेन के लिए , समाज में ज्यादा प्रभाव के लिए सभी को लड़कियों और बालिकाओ ला उत्थान के लिए हाथ मिलाना चाहिए।

Beti Bachao Beti Padhao Slogan :

कोई भी बेटी पढ़ने से न छूटे। सब मिलकर करे प्रयास कि यह संकल्प न टूटे।।
लिंग परीक्षण कराकर बेटी को कोख में ही मत मारो ! उसे इस दुनिया में शिक्षा देकर उसकी ज़िंदगी संवारो।।
शिक्षित बेटियाँ संभाल रही है व्यापर , आप भी अपनी बेटी को दे शिक्षा का उपहार।।
 Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi
Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi
अब तो बेटियां भी संसार में जुड़ने लगी हैं जहाज , तो आप भी उसे पढ़ा कर करो आगाज़।।
बेटी होती है सबसे प्यारी , उसे पढ़ाकर बना दो समझदार नारी।।
पढ़ी लिखी बेटी में होता है दम , उसे न समजे किसी से कम।।
यदि आज आपने अपनी बेटी को पढ़ाया। तो कल के लिए सुखद भविष्य बनाया।।
ज्ञान की अधीछात्रि देवी को कहते है वाणी। आप भी अपनी बेटी को पढ़ाकर बना दो जन कल्याणी।।
बेतिया नहीं होती है जीवन का भार , उन्हें पढ़ा लिखाकर उनकी दुनिया दो सवार।।
Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi
Essay On Beti Bachao Beti Padhao in Hindi
वेदो का अद्ध्यन करके एक बेटी इस दुनिया में छाइ। जानते हो आप उसका नाम था पंडिता रमाबाई।।
पढ़ी-लिखी बेटी को जहा में कोई न भूले ! महाराष्ट्र की उस शिक्षिका का नाम था सावित्रीबाई फुले।।

Short Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ‘ यह एक भारत सरकार की प्रतिभाशाली योजना में से एक और सरकारी मंत्रालयों द्वारा की गई एक संयुक्त पहल है।
  • इस अभियान(योजना) का प्रारम्भ 22 जनवरी, 2015 को नरेंद्र मोदीजी के द्वारा किया गया था।
  • पिछली जनगणना (2011)के आधीन हमें कबर हुए हैं की , भारत देश में प्रति 1000 पुरुषों और महिला की संख्या तकरीबन 943 ही हैं।
  • योजना का शुरूआती क्षेत्र हरियाणा राज्य था , क्यों की हरियाणा राज्य में सबसे कम महिला लिंग अनुपात- 775/1000 थे।
  • योजना का मुख्य उद्देश्य कन्या भ्रूण हत्या स्त्रियों पर हो रहे अत्याचार को रोकने का हैं। साथ ही इसका हेतु लड़कियों को शिक्षा प्रदान करना भी है।
  • यह योजना मुख्य दो प्राथमिक कारण के साथ लॉन्च की गई थी , जिसमे से पहला हैं “दिन प्रतिदिन महिला के खिलाफ बढ़ते हुए अपराध” और दूसरा कारण बाल लिंगानुपात।
  • यह मिशन बेटी बचाओ बेटी पढाओ , जिसके तीन महत्त्वपूर्ण लक्ष्य हैं। 1) बालिकाओं को शिक्षा की प्राप्ति 2) महिला अनुपात का संतुलन 3) लोगो का बाल अधिकारों पर ध्यान केंद्रित करना।
  • इस अभियान ने सारे देश में बालिका और महिला के खातिर , प्रभावी रूप से उसके कल्याण , सुरक्षा और सेवा की मांग की।
  • बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना” का उद्देश्य हमारे समाज और देश में फैले भेदभाव और असंतुलन को दूर करना और लड़कियों को मान-सम्मान और सामाजिक स्वतंत्रता प्रदान करना है।

मेरा नाम निश्चय है। में इसी तरह की हिंदी कहानिया , हिंदी चुटकुले और सोशल मीडिया से संबंधित आर्टिकल लिखता हु। यह आर्टिकल “Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi” अगर आपको पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और हमे फेसबुक , इंस्टाग्राम आदि में फॉलो करे।

धन्यवाद।❤️

1 thought on “Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi | बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध”

Leave a Comment